भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में किया जाए शामिल

नई दिल्ली। ऐ गंगा मईया तोहे पियरी चढ़ईबे, सैय्या से कईदे मिलनवा। पुरानी भोजपुरी फिल्म का प्रसिद्ध गाना सोमवार को देश की संसद में गूंज उठा। भोजपुरी फिल्मों के स्टार व गोरखपुर से भाजपा सांसद रवि किशन ने इसी गाने को बोल गुनगुनाते हुए भोजपुरी की मिठास का जिक्र किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बोली गई भोजपुरी का उच्चारण भी किया, जब पीएम ने काशी में बोला था का हाल बा काशी।
उन्होंने यह सुनकर 25 करोड़ भोजपुरी लोग एकदम बौरा गए थे, कहे तो पगला गए थे कि अब उनकी मुराद पूरी हो जाएगी। संसद के जीरो आवर में अपनी बात रखते हुए सांसद रवि किशन ने कहा कि लोक महत्व के एक अत्यंत महत्वपूर्ण मुद्दे को उठाने की अनुमति देने पर मैं आभार प्रकट करता हूं। यह मुद्दा देश के 25 करोड़ भोजपुरी भाषी लोगों का। जो लोग भोजपुरी बोलते हैं और समझते है। मॉरीशस में दूसरी राष्ट्र भाषा भोजपुरी है। त्रिनिदाद एंड टोबागो जैसे कई कैरिबियाई देशों में भोजपुरी बोली जाती है।
रवि किशन ने कहा कि जब काशी आने पर पीएम मोदी ने कहा कि का हाल बा काशी। गोड़ छू के प्रणाम करत हई, नमस्कार करत हई बिहार के, पूरा बम-बम हो गया। पूरे भोजपुरी लोगों में उम्मीद जाग गई कि पीएम अब भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में ले आएंगे। उन्होंने गंगा मईया के गाने को बोल भी सुनाकर भोजपुरी का मिठास बताते हुए कहा कि महोदय अब समय आ गया कि हमारी सरकार इसे आठवीं अनुसूची में शामिल करे।
उल्लेखनीय है कि इससे पहले भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने के मुद्दे को संसद में उठाया जा चुका है। भाजपा सांसद मनोज तिवारी, संजय जायसवाल लोकसभा में तो शिव प्रताप शुक्ल राज्यसभा में इसे उठा चुके है। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी ने बताया कि जो भी इस देश की भाषा विदेशों में बोली जाती है, वहां पर मान्यता प्राप्त है। वह भारतीय भाषा आठवीं अनुसूची में रखने पर सहमति बन चुकी है। भोजपुरी लोगों का सालों से इसका इंतजार है। इसी बात को सोमवार को सांसद रवि किशन ने उठाया। यह भोजपुरी लोगों के सम्मान व आस्था की बात है।
Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *