”जीएसटी से प्रभावित हुए लघु उद्योग व कामगार”

नई दिल्ली (जनमत की पुकार ब्यूरो) लघु उद्योग भारती (एलयूबी) अपने गठन के 25वें राष्ट्रीय सम्मेलन सह रजत जयंती समारोह 16 से 18 अगस्त तक नागपुर में शुरू करने जा रहा है। इसमें देश भर के 450 जिलों से करीब 2500 उद्यमी पहुंचेंगे। समारोह का उद्घाटन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत करेंगे। वहीं इस दौरान केंद्रीय सूक्ष्म व लघु उद्योग मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद होंगे। कार्यक्रम के अंत में उत्कृष्ठ उद्यमियों को पुरस्कृत किया जाएगा।
वहीं, 17 अगस्त को पूरे राष्ट्र से सूक्ष्म व लघु उद्योग में सक्रिय औद्योगिक संगठनों का समागम है। इस बात की जानकारी सोमवार को एक प्रेस वार्ता के दौरान एलयूबी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जितेंद्र गुप्त ने दी है। चर्चा के दौरान देशभर में लघु उद्योगों की स्थिति पर चर्चा हुई, जिसमें गुप्त ने माना कि मौजूदा समय में आर्थिक मोर्चे पर देश चुनौतियों का सामना कर रहा है। संघ के आनुषांगिक संगठन एलयूबी ने कहा कि हमें देश के लघु उद्योगों को पनपने के लिए अनुकूलित वातावरण तैयार करने की जरूरत है।
एलयूबी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि जीएसटी से पहले वैट में 1.5 करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाले उद्योग को उत्पाद शुल्क (एक्साइज ड्यूटी) से छूट मिली थी जिसे नई कर व्यवस्था में समाप्त कर दी गई। वहीं, जॉब वर्क को भी जीएसटी के तहत ला दिया गया। यह अधिकतम 18 फीसदी तक है। इस नई कर व्यवस्था से लाखों उद्यमी और कामगार प्रभावित हुए हैं।
उन्होंने बताया कि विगत वर्षों में जीएसटी दर ने सभी उद्यमियों को समान कर दिया है। अतिरिक्त टैक्स की वजह से भी लघु उद्योगों को नुकसान हुआ है। इस तीन दिवसीय अधिवेशन में सह सरकार्यवाह कृष्णगोपाल, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, नितिन गडकरी, पीयूष गोयल व संतोष गंगवार एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद रहेंगे।
Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *