संसद का शीतकालीन सत्र आज से, राज्यसभा के 250वें सत्र पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया संबोधित

जनमत की पुकार
नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र की आज शुरुआत हुई, जो 13 दिसंबर तक चलेगा। संसद के सत्र की शुरुआत लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू के संबोधन के साथ हुई। दोनों सदनों में जगन्नाथ मिश्रा, अरुण जेटली, सुखदेव सिंह लिब्रा, राम जेठमलानी, गुरुदास दासगुप्ता और सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दी गई।

आज के सत्र की अब तक की बातें :

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 2003 में अटल जी ने टिप्पणी की थी कि राज्यसभा दूसरा सदन हो सकता है लेकिन इसे द्वितीयक सदन नहीं कहा जाना चाहिए। आज, मैं अटल जी के विचारों से सहमत हूं और यह जोड़ना चाहता हूं कि राष्ट्रीय विकास के लिए राज्यसभा एक सक्रिय सहायक सदन होना चाहिए।

– आज मैं दो दलों राकांपा और बीजद की सराहना करना चाहता हूं। इन दलों ने संसदीय मानदंडों का कड़ाई से पालन किया है। वे कभी कुएं में नहीं गए। फिर भी, उन्होंने अपनी बातों को बहुत प्रभावी ढंग से उठाया है। मेरा सहित अन्य दल उनसे सीख सकते हैं।

– हम जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35(ए) से संबंधित बिल पारित करने में राज्यसभा की भूमिका कभी नहीं भूल सकते।

– राज्यसभा की सराहना करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस सदन ने कई ऐतिहासिक पल देखे हैं, इतिहास बनाया भी है और कई बार इतिहास मोड़ने का काम भी किया है।

– जब भी राष्ट्र के बारे में अच्छा हुआ है, राज्यसभा में इस अवसर पर वृद्धि हुई है। यह व्यापक रूप से माना जाता था कि ट्रिपल तालाक बिल यहां पारित नहीं होगा, लेकिन यह किया गया था। इस भवन में पारित होने के बाद जीएसटी एक वास्तविकता बन गया।

– पीएम मोदी ने कहा कि इस सदन के दो पहलू खास हैं स्थायित्व और विविधता। स्थायित्व इसलिए महत्वपूर्ण है कि लोकसभा तो भंग होती रहती है लेकिन राज्य सभा कभी भंग नहीं होती। विविधता इसलिए महत्वपूर्ण है कि क्योंकि यहां राज्यों का प्रतिनिधित्व प्राथमिकता है।

– पीएम मोदी ने कहा, इस सदन ने कई ऐतिहासिक क्षण देखे हैं, इसने इतिहास भी बनाया है और इतिहास को भी बनाया है। यह दूर का सदन है। राज्यसभा लोगों को चुनावी राजनीति से दूर देश और इसके विकास में योगदान करने का अवसर देती है।

– राज्यसभा की 250 सत्रों तक आगे बढ़ती रही यात्रा में जिन-जिन ने योगदान दिया है वे अभिनंदन के अधिकारी हैं। उनका आदरपूर्वक स्मरण करता हूं। : मोदी

– पीएम मोदी ने कहा कि राज्यसभा के 250वें सत्र में शामिल होना मेरा सौभाग्य है। संसद भारत की विकास यात्रा का प्रतिबिंब है। 250 सत्र ये अपने आप में समय व्यतीत हुआ ऐसा नहीं है।

– नेशनल कान्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला को श्रीनगर में हिरासत में रखे जाने का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस, द्रमुक और अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने लोकसभा में सरकार पर निशाना साधा और लोकसभा अध्यक्ष से सरकार को अब्दुल्ला को तत्काल रिहा करने का आदेश देने का अनुरोध किया। इस मुद्दे पर विरोध जताते हुए कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया।

– लक्षद्वीप के लोकसभा सांसद फैजल पीपी मोहम्मद ने वह के स्थानीय मुद्दों को लेकर कहा, यह लक्षद्वीप के विकास के बारे में है, वहां तैनात अधिकांश अधिकारी दानिक्स (दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, दमन और दीव और दादरा और नगर हवेली सिविल सेवा के एनसीटी) से हैं, वे स्थानीय मुद्दों को नहीं समझते हैं।

उन्होंने कहा, हमने स्थानीय लोगों को दानिक्स की विस्तारित सेवा के लिए गृह मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजा है ताकि लक्षद्वीप के लिए अजीबोगरीब मुद्दों को ठीक से संबोधित किया जा सके और क्षेत्र का विकास हो सके। हम गृह मंत्रालय से अनुरोध करते हैं कि वह इस प्रस्ताव को गंभीरता से देखे।

– राज्यसभा में अलग-अलग मुद्दों को लेकर कई सांसदों ने हंगामा किया, जिसके चलते कार्यवाही को 2:00 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

– जम्मू-कश्मीर की स्थिति को लेकर कांग्रेस तथा महाराष्ट्र में किसानों की स्थिति को लेकर शिवसेना के सदस्यों ने अलग अलग मुद्दों को लेकर सदन में नारेबाजी की।

– पीडीपी के राज्यसभा सदस्यों मीर फयाज और नजीर अहमद लवाय ने जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किए जाने के खिलाफ संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया।

– राज्यसभा से शिवसेना सांसद संजय राउत अरुण जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुआ कहा, अरुण जेटली का निधन राष्ट्र के लिए एक क्षति है, लेकिन यह शिवसेना के लिए भी एक बड़ी क्षति है। संघर्ष का दूसरा नाम अरुण जेटली थे। और अनके हर संघर्ष में मैं अनके साथ था। हम उनके सभी आदेशों का पालन करते थे। हमने अरुण जेटली से सीखा कि संबंध क्या हैं और उन्हें कैसे बनाए रखना है।

– लोकसभा में विपक्षी सांसदों ने , “विपक्षी पार हमला बंद करो, फारूक अब्दुल्ला जी को कोहा, हम न्याय चाहते हैं” के नारे लगाए।

– कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा, फारूक अब्दुल्ला जी को हिरासत में लिए हुए आज 108 दिन हो गए हैं। ये क्या ज़ुल्म हो रहा है? हम चाहते हैं कि उसे संसद में लाया जाए। यह उसका संवैधानिक अधिकार है।

– आप सांसद भगवंत मान बीजेपी सांसद और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर से पूछा, क्या सरकार यह मान ने के लिए तैयार है की देश आर्थिक मंडी से गुज़र रहा है?”

– राज्यसभा सांसद और ओलंपिक पदक विजेता मैरी कॉम संसद भवन पहुंची।

– केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर एक इलेक्ट्रिक कार से संसद पहुंचे, वे कहते हैं, “सरकार धीरे-धीरे इलेक्ट्रिक कारों पर स्विच कर रही है क्योंकि वे प्रदूषण मुक्त हैं। मैं लोगों से प्रदूषण से लड़ने के लिए योगदान देने की अपील करता हूं- सार्वजनिक परिवहन, इलेक्ट्रिक वाहनों आदि का उपयोग करना शुरू करें।”।

– लोकसभा में केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी जैसे ही प्रश्नकाल के लिए खड़े हुए कुछ सांसदों ने नारे लगाए।

– कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी संसद में पहुंच चुकी हैं।

– कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने दिल्ली बढ़ते वायु प्रदूषण के स्तर के खिलाफ संसद परिसर में महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने विरोध प्रदर्शन किया।

– महाराष्ट्र में बेमौसम बारिश को प्राकृतिक आपदा घोषित करने की मांग को लेकर शिवसेना नेताओं ने संसद परिसर में छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन किया।

– बीजेपी सांसद हेमा मालिनी, किरन खेर और वीके सिंह संसद पहुंच चुके है।

– बीजेपी सांसद मनोज तिवारी और बीजेपी सांसद मनसुख मंडाविया साइकिल की सवारी करते हुए संसद भवन पहुंचे।

– अधीर रंजन चौधरी ने संसद के बाहर कहा, हम पीएम और सत्तारूढ़ पार्टी से भी उम्मीद करते हैं कि आम जनता के हित से जुड़े सभी मुद्दों पर संसद के अंदर चर्चा की अनुमति दी जानी चाहिए। संसद चर्चा, बहस और संवाद के लिए होती है।

केंद्र सरकार इस सत्र में करीब 35 विधेयकों को पारित कराना चाहती है। इन विधेयकों में विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 भी शामिल है। मौजूदा समय में संसद में 43 विधेयक लंबित हैं। संसद के शीतकालीन सत्र में इस बार विपक्ष जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने, विपक्षी पार्टियां कश्मीर में नेताओं की नज़रबंदी, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था समेत कई मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने वाली है। वहीं केंद्र सरकार की तरफ से नागरिकता संशोधन बिल को पास करवाना सबसे अहम होने वाला है

 

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *