बिहार: क्वारंटीन सेंटर में खुदकुशी करने वाले मजदूर की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव

वैशाली। कोरोना को लेकर बिहार से एक बड़ी खबर आई है। वैशाली जिले में बने क्वारंटीन सेंटर में खुदकुशी करने वाले प्रवासी मजदूर की कोरोना रिपोर्ट आ गई है। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद काफी कुछ साफ हो गया है।

खुदकुशी करने वाले प्रवासी मजदूर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव
वैशाली जिले के हाजीपुर में राजकीय अंबेडकर आवासीय बालिका विद्यालय में बने जिला आइसोलेशन एवं क्वारंटीन सेंटर में 30 साल के प्रवासी मजदूर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। अब उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है। जिले के सिविल सर्जन इंद्र देव रंजन ने इस बात की पुष्टि की है।
आपको बता दें कि मंगलवार की रात क्वारंटीन सेंटर में प्रवासी मजदूर की आत्महत्या की खबर से जिला प्रशासन में खलबली मच गई थी। प्रवासी मजदूर के क्वारंटीन सेंटर में खुदकुशी की खबर सदर एसडीओ संदीप शेखर प्रियदर्शी सदर, एसडीपीओ राघव दयाल, सिविल सर्जन इंद्र देव रंजन. सदर प्रखंड के अंचलाधिकारी कृष्ण कुमार सिंह और सदर पुलिस स्टेशन के थानेदार रोहन कुमार समेत कई लोग मौके पर पहुंचे थे।

‘कोरोना के डर से परेशान था प्रवासी मजदूर’
खुदकुशी करने वाले प्रवासी मजदूर के घरवालों के मुताबिक वो कोरोना डर से बेहद परेशान था। परिजनों का कहना है कि मृतक कोरोना वायरस बीमारी का नाम सुनकर ही काफी डरा हुआ था। घरवालों ने आशंका जताई है कि इसी घबराहट के चलते उसने खुदकुशी कर ली है।

दिल्ली से लौटा था मृतक
खुदकुशी करने वाला प्रवासी मजदूर दो दिन पहले ही दिल्ली से वैशाली लौटा था। इसके बाद वो हाजीपुर के क्वारंटीन सेंटर में आया था। यहां से स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने कल ही उसका सैंपल लिया था जिसकी रिपोर्ट पटना से बुधवार को आ गई है। इस रिपोर्ट में मृतक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

लेकिन क्वारंटीन सेंटर में प्रवासी मजदूर की खुदकुशी ने सवाल खड़े कर दिए हैं। उस वक्त मौके पर कुछ अफसर सिर्फ इतना बता रहे थे कि प्रवासी मजदूर ने खुदकुशी की है। लेकिन कई अफसर इस मामले पर बोलने से बच रहे थे। सवाल यही है कि प्रशासनिक इंतजाम के बावजूद भी क्वारंटीन सेंटर में खुदकुशी जैसी बड़ी घटना कैसे हो गई।

Share Button
Share it now!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *