पूअर होम की चिंता सता रही पद्मश्री डॉ.रामजी सिंह को ।

  • दरभंगा संवाददाता

शरीर नहीं दें रहा साथ ,फिर भी पूअर होम को मौलिक रूप में देखनें की हैं लालसा । उक्त बातें सामाजिक सरोकार से जुड़े युवा उज्ज्वल कुमार से पटना स्थित आवास पर मुलाकात के बाद चर्चा के दौरान पद्मश्री डॉ. रामजी सिंह नें कही । उज्ज्वल कुमार नें महान गांधीवाद, पूर्व सांसद व पूर्व कुलपति को पद्मश्री मिलनें के बाद पटना स्थित आवास मिथिला पेंटिंग युक्त प्रतीक चिन्ह भेंट कर हार्दिक बधाई एवं शुभकामना दी । कई मौकों पर पद्मश्री डॉ. रामजी सिंह दरभंगा आतें रहें हैं । दरभंगा आनें के उनके संस्मरणों को याद करतें हुए उज्ज्वल कुमार नें कहा कि कामेश्वरी प्रिया पूअर होम मामलें में बिहार राज्य मानवाधिकार आयोग के फैसले के अनुपालन के लिए प्रो. जयशंकर झा जी के नेतृत्व में 15 मई 2015 को हुए हुए धरने में सम्मलित होनें के लिए पैसेंजर ट्रेन से दरभंगा आएं थें । उस समय उन्होंनें तत्कालीन प्रमंडलीय आयुक्त आर. के खंडेलवाल से मिलकर भवन जीर्णोद्धार का का अनुरोध किया था । उसके बाद मानव सेवा समिति के तत्वाधान में आयोजित 23 सितंबर 2018 को मिथिला विश्वविद्यालय के जुबली हॉल में “शिक्षा एवं पीड़ित मानवता” विषयक सेमिनार में भाग लिया और देर शाम डॉ .सिंह के नेतृत्व में हाईकोर्ट के निर्देश के आलोक में अनाथों के पुनर्वास सुनिश्चित कराने को लेकर प्रमंडलीय आयुक्त मयंक बरबड़े से मिलें । आयुक्त,दरभंगा नें इस कड़ी में हाईकोर्ट के निर्देश एवं संस्थापक महाराजा की मूल भावना के आलोक में अनुपालन का आश्वासन भी दिया । आगें उज्ज्वल कुमार नें डॉ. सिंह को जीवित गांधी की संज्ञा दी और उनके शतायु होनें की कामना की ताकि आनें वाली पीढ़ी को उनसे मार्गदर्शन मिलता  रहें । साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना के अनुकूल होनें पर दरभंगा आगमन की इच्छा जताई ।

Share Button
Share it now!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *