भाजपा को हराने के लिए कुछ भी करने को तैयार, कांग्रेस से गठबंधन के सवाल पर बोले केजरीवाल

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आम आदमी पार्टी से गठबंधन को लेकर बड़ा बयान दिया है। सोमवार को राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली में भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस आम आदमी पार्टी से गठबंधन को तैयार है। कांग्रेस आप को चार सीटें देने को भी तैयार है, लेकिन केजरीवाल ने यू-टर्न ले लिया है।राहुल ने कहा कि गठबंधन के लिए कांग्रेस के दरवाजे अभी भी खुले हुए है, लेकिन समय निकला जा रहा है।

राहुल गांधी की ट्वीट का जवाब केजरीवाल ने भी ट्वीट करके दिया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘ कौन सा U-टर्न?अभी तो बातचीत चल रही थी  आपका ट्वीट दिखाता है कि गठबंधन आपकी इच्छा नहीं मात्र दिखावा है। मुझे दुःख है आप बयान बाज़ी कर रहे हैं। आज देश को मोदी-शाह के ख़तरे से बचाना अहम है। दुर्भाग्य कि आप यूपी और अन्य राज्यों में भी मोदी विरोधी वोट बांट कर मोदी की मदद कर रहे हैं।


उधर, दिल्‍ली के मंत्री और आप के नेता गोपाल राय ने भी कहा कि राहुल गांधी जी 18 सीटों पर भाजपा को हराने के लिए दिलचस्पी क्यों नही दिखा रहे हैं। राहुल गांधी जी ने चार सीट का दरवाजा खोला है तो हमने दिल्ली, हरियाणा और चंडीगढ़ में 18 सीट पर भाजपा को हराने के लिए दरवाजा खोल रखा है।

आम आदमी पार्टी के नेताओं के जवाब में दिल्ली कांग्रेस प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने कहा कि आम आदमी पार्टी दिल्ली से अलग 18 सीटों पर गठबंधन का सुझाव दे रही है। पहले हम दिल्ली में तो साथ आएं। राहुल गांधी ने कहा कि दिल्ली में हमारे दरवाजे खुले हैं और यह किया जाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि एक राज्य में जो भी फैसला होता है, उसे दूसरे राज्यों में उसी तरह दोहराया जाना नहीं चाहिए।

इससे पहले रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि लोकसभा चुनाव में भाजपा को हराने के लिए वह कुछ भी करेंगे। यह बात उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस से गठबंधन के मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही। केजरीवाल ने कहा ‘देश खतरे में है। नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी से देश को बचाने के लिए जो भी करने की जरुरत होगी उसे हम करने को तैयार हैं’।

दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित संयुक्त विपक्ष के प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि सिर्फ एक पार्टी है जो VVPAT के खिलाफ है। क्योंकि ईवीएम से उस पार्टी को मदद मिल रही है। उन्होंने कहा कि ‘पिछले 5 साल में जब भी कोई EVM मशीन ख़राब हुई है, उसका फायदा केवल भाजपा को हुआ है। खराब मशीन में किसी और पार्टी को वोट नही जाता केवल भाजपा को वोट जाता है’।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी शनिवार को संकेत दिया था कि कांग्रेस और आप की गठबंधन की उम्मीदें अभी भी बची हुई हैं। सिसोदिया ने कहा था कि अब यह कांग्रेस को तय करना है कि इस समय उसकी प्राथमिकता मोदी और शाह की जोड़ी को हराना है या ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने का रिकॉर्ड बनाना है।

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *